Friday, January 18, 2013

मेरा बदल चाहिए

"उठ के इस हँसती हुई दुनिया से जा सकता हूँ मैं
अहले-महफ़िल को मगर मेरा बदल भी चाहिए"
- मुनव्वर राना

2 comments:

अजय कुमार झा said...

बहुत ही कमाल

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

उम्दा...बहुत बहुत बधाई...

Post a Comment