Saturday, June 27, 2015

शेरो शायरी क्या है !?

"तर्के-मय को ऐ वाइज़ तू न कुछ समझ लेना;
इतनी पी चुका हूँ के और पी नहीं जाती!!
शेरो शायरी क्या है सब उसी का चक्कर है;
वो कसक जो सीने से आज भी नहीं जाती!!"
- मौलाना हारून 'अना' क़ासमी

2 comments:

सुशील कुमार जोशी said...

वाह !

Tushar Rastogi said...

उम्दा - वाह वाह वाह !!!

Post a Comment