Tuesday, May 17, 2016

ताबीज़ जैसा था वो शख्स

"ताबीज़ जैसा था वो शख्स;
गले लगते ही सुकूँ मिलता था!"
- अज्ञात

0 comments:

Post a Comment