Friday, January 11, 2013

हम ताजमहल वाले हैं

"लूटने वाले उसे क़त्ल न करते लेकिन,
उसने पहचान लिया था कि बग़ल वाले हैं;
बेकफ़न लाशों के अम्बार लगे हैं लेकिन,
फ़ख्र से कहते हैं हम ताजमहल वाले हैं !!"
- मुनव्वर राना

2 comments:

ब्लॉग बुलेटिन said...

जय जवान जय किसान जय हिन्द - ब्लॉग बुलेटिन आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

Johny Samajhdar said...

बहुत अच्छा लिखा है | वह जी वह क्या शेर है | दाद मेरी तरफ से |
आभार
तमाशा-ए-ज़िन्दगी

Post a Comment