Wednesday, February 15, 2017

“ग़ालिब” की १४८ वीं पुण्यतिथि

  आज मिर्ज़ा असद-उल्लाह बेग ख़ां उर्फ “ग़ालिब” की १४८ वीं पुण्यतिथि है | इस मौके पर पेश है उनकी एक ग़ज़ल जो मुझे बेहद पसंद है |

दोस्त ग़मख़्वारी में मेरी सअई फ़रमायेंगे क्या / ग़ालिब

दोस्त ग़मख्वारी में मेरी सअ़ई[1] फ़रमायेंगे क्या
ज़ख़्म के भरने तलक नाख़ुन न बढ़ आयेंगे क्या

बे-नियाज़ी[2] हद से गुज़री, बन्दा-परवर[3] कब तलक
हम कहेंगे हाल-ए-दिल और आप फ़रमायेंगे, 'क्या?'

हज़रत-ए-नासेह[4] गर आएं, दीदा-ओ-दिल फ़र्श-ए-राह[5]
कोई मुझ को ये तो समझा दो कि समझायेंगे क्या

आज वां तेग़ो-कफ़न[6] बांधे हुए जाता हूँ मैं
उज़्र[7] मेरा क़त्ल करने में वो अब लायेंगे क्या

गर किया नासेह[8] ने हम को क़ैद अच्छा! यूं सही
ये जुनून-ए-इश्क़ के अन्दाज़ छुट जायेंगे क्या

ख़ाना-ज़ाद-ए-ज़ुल्फ़[9] हैं, ज़ंजीर से भागेंगे क्यों
हैं गिरफ़्तार-ए-वफ़ा, ज़िन्दां[10] से घबरायेंगे क्या

है अब इस माअ़मूरा[11] में, क़हते-ग़मे-उल्फ़त[12] 'असद'
हमने ये माना कि दिल्ली में रहें, खायेंगे क्या

शब्दार्थ:
  1. सहायता
  2. उपेक्षा
  3. मालिक, रखवाला
  4. महान उपदेशक
  5. आँखें और दिल रस्ते में गलीचे की तरह बिछ जाएगें
  6. तलवार और कफ़न
  7. प्रशन उठाना, ना-नुकर करना
  8. उपदेशक
  9. जु्ल्फ़ों के कैदी
  10. कैदखाना
  11. नगर
  12. प्रेम के दुखों का अकाल

4 comments:

ब्लॉग बुलेटिन said...

आज सलिल वर्मा जी ले कर आयें हैं ब्लॉग बुलेटिन की १६०० वीं पोस्ट ... तो पढ़ना न भूलें ...


ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "सोलह आने खरी १६०० वीं ब्लॉग बुलेटिन “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

सुशील कुमार जोशी said...

सुन्दर।

Kavita Rawat said...

ग़ालिब” की १४८ वीं पुण्यतिथि पर सुन्दर गजल प्रस्तुति हेतु धन्यवाद
श्रद्धासुमन!

Kavita Rawat said...

आपको जन्मदिन की बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामनाएं

Post a Comment